Types of Mutual Funds in Hindi

म्यूच्यूअल फंड कितने तरह के होते है

Author: Wiki Bharat Team

Updated On :

म्यूचुअल फंड एक ऐसा निवेश है जिसमें कम जोखिम और बिना मार्केट की समझ के निवेश किया जा सकता है। हमने अपनी पिछली पोस्ट में समझा था, कि म्यूचुअल फंड क्या है और आज हम समझते है Mutual Fund Kitne Prakar Ke Hain…. हमारे देश में म्यूचुअल फंड निवेशकों का सबसे पसंदीदा निवेश बन बनते जा रहा है। युवा पीढ़ी म्यूचुअल फंड के प्रति इसलिए भी अधिक आकर्षित हो रही है क्योंकि आजकल की टेक्नोलॉजी को देखते हुए इसमें निवेश करना बेहद आसान हो गया है वर्तमान में आप आप घर बैठे ही अपने लेपटॉप या मोबाइल के जरिये विभिन्न म्यूचुअल फंड खरीद या बेच सकते हैं। 

अभी हम म्यूचुअल फंड कितने तरह के होते है इसे समझने की कोशिश करते है…

Types of Mutual Funds in Hindi

विभिन्‍न प्रकार की जरूरतों को पूरा करने के लिए Mutual Fund कंपनियां द्वारा समय-समय पर विभिन्‍न प्रकार की म्यूचुअल फंड स्कीम को जारी किया जाता है और AMFI तथा SEBI द्वारा इन विभिन्‍न प्रकार की म्यूचुअल फंड स्कीम को रेगुलेट व मॉनिटर किया जाता है, ताकि निवेशक को इन स्कीम में निवेश करने पर किसी गलत Terms and Conditions की वजह से कभी भी किसी भी तरह का Financial Loss न हो।

Read Also : इक्विटी का क्या अर्थ होता है?

इसलिए जब आप अपना कोई फाइनेंसियल लक्ष्य तय करते हैं, तब आपको विभिन्‍न प्रकार के म्यूचुअल फंड स्कीम के बारे में पर्याप्‍त जानकारी होना जरूरी होता है ताकि आप किसी गलत स्कीम में निवेश करना शुरू न कर दें। क्‍योंकि यदि आप किसी गलत म्यूचुअल फंड स्कीम में निवेश करना शुरू कर देंगे, तो आपका वह फाइनेंसियल लक्ष्य कभी पूरा नहीं हो पायेगा, जिसके लिए आपने निवेश करना शुरू किया था।

अत: यहां हम केवल Types of Mutual Funds in Hindi के बारे में ही जानेंगे, क्‍योंकि Equities यानी Stocks Market / Share Market में निवेश शुरू करने का सबसेआसान माध्‍यम म्यूचुअल फंड ही है और वर्तमान समय में उपलब्‍ध विभिन्‍न प्रकार की म्यूचुअल फंड स्कीम इस प्रकार हैं:

फंड स्कीम के आधार पर 

  • ओपन एंडेड म्यूचुअल फंड (Open Ended)
  • क्लॉज एंडेड म्यूचुअल फंड (Closed Ended)
  • ईटीएफ (ETF)

निवेश के आधार पर

  • इक्विटी फंड (Equity Funds)
  • डेब्ट फंड (Debt Funds)

प्लान के आधार पर

  • डायरेक्ट प्लान (Direct Plan)
  • रेगुलर प्लान (Regular Plan)

निवेश उद्देश्य के आधार ओर 

  • ग्रोथ फंड (Growth Funds)
  • डिविडेंड फंड (Dividend Funds)
  • डिविडेंड री-इन्वेस्टमेंट फंड (Dividend Reinvestment Funds)

विशेषता के आधार पर

  • हाइब्रिड फंड (Hybrid Funds)
  • लिक्विड फंड (Money Market Funds or Liquid Funds)
  • इनकम फंड (Income Funds)
  • बैलेंस्ड फंड (Balanced Funds)
  • डाइवर्सिफाइड फंड (Diversified Funds)
  • इंडेक्स फंड (Index Fund)
  • टैक्स सेविंग फंड (Tax Saving Funds)
  • थीमेटिक फंड (Thematic Funds)
  • सेक्टर फंड (Sector Funds)
  • फंड ऑफ़ फंड (Funds of Funds)
  • अन्य…

इन विभिन्‍न प्रकार की म्यूचुअल फंड स्कीम्स के बारे में हम आगे आने वाले ब्लॉग में विस्‍तार से जानेंगे, ताकि आप अपने फाइनेंसियल लक्ष्यों को पूरा करने के लिए उपयुक्‍त म्यूचुअल फंड का चयन कर सकें।

क्या निवेश और म्यूचुअल फंड एक समान है?

लोग बैंक एफडी के बाद यदि किसी अन्‍य फाइनेंसियल प्रोडक्ट से सबसे ज्‍यादा परिचित होते हैं, तो वह जीवन बीमा ही होता है, जबकि सच्‍चाई ये है कि बीमा और निवेश दो बिल्‍कुल ही अलग तरह के फाइनेंसियल प्रोडक्ट हैं और बीमा कभी भी निवेश नहीं होता क्‍योंकि निवेश अपनी स्‍वयं की फाइनेंसियल सिक्योरिटी या किसी फाइनेंसियल लक्ष्य को पूरा करने के लिए किया जाता है। जबकि बीमा, किसी नुकसान की भरपाई के लिए कराया जाता है।

Read Also : आईपीओ क्या है एंव आईपीओ में निवेश कैसे करें?

एक तरह से देखा जाए तो बीमा का पैसा आपके भविष्य को सुरक्षित करने के लिए नहीं होता बल्कि आपके किसी Dependent, जो कि पूरी तरह से आप पर निर्भर है, उनके भविष्य को सुरक्षित करने के लिए होता है, ताकि आपकी अनुपस्थिति में भी आपके उस Dependent की फाइनेंसियल स्थिति ठीक रहे और वह अपने जीवन के उन लक्ष्यों को पूरा कर सके।

उदाहरण के लिए, यदि आप अपना जीवन बीमा करवाते हैं, तो इस इन्सुरेंस का पैसा आप पर निर्भर आपके माता-पिता, पत्‍नी या बच्‍चों को उस आपात स्थिति में मिलता है, जैसे कि किसी कारणवश आपकी मृत्‍यु हो जाए, ताकि आपके Dependent वैसी ही Life Style Maintain कर सकें, जैसी आपके जीवित रहने पर करते थे। इसका मतलब ये हुआ कि आपके जीवन बीमा का पैसा आपके लिए है ही नहीं सिर्फ और सिर्फ आपके ऊपर निर्भर रहने वालो के लिए है।

जबकि निवेश हमेंशा आपके अपने किसी फाइनेंसियल लक्ष्यों को पूरा करने के लिए होता है क्‍योंकि निवेश का जो रिटर्न प्राप्‍त होता है, उसे आप अपने लिए उपयोग करते हैं और वह रिटर्न सिर्फ और सिर्फ आपके लिए होता है।

इसलिए सही फाइनेंसियल प्लानिंग तभी हो सकती है, जब आप बीमा और निवेश को Mixup न करें और अपने फाइनेंसियल लक्ष्यों के आधार पर सही फाइनेंसियल प्रोडक्ट (बैंक एफडी, म्यूचुअल फंड, गोल्ड, स्टॉक्स, बांड्स आदि) का चुनाव करें।

ये देखा गया है कि इक्विटी के अलावा कोई भी अन्‍य प्रकार का फाइनेंसियल प्रोडक्ट, इन्फ्लेशन यानी महंगाई को Beat करने में सक्षम नहीं है और बिना Inflation को Beat किए हुए कोई भी फाइनेंसियल लक्ष्य पूरा नहीं किया सकता है।

हमें उम्मीद है कि आपको Types of Mutual Funds in Hindi आर्टिकल पसंद आया होगा, और अगर आपका इससे संबधित कोई सवाल है तो आप कमेंट बॉक्स में पूछ सकते है।

 You May Also Like

Noun

Noun Kise Kahate Hain

Stories with Morals in Hindi

5 नैतिकता के साथ कहानियां

Short Love Stories in Hindi

दिल को छू लेने वाली प्रेम कहानियां

Vikram Betal Story In Hindi

विक्रम बेताल की प्रथम कहानी

Short Motivational Story in Hindi

कोरा ज्ञान प्रेरणादायक कहानी

Jaisi Karni Waisi Bharni Story in Hindi

जैसी करनी वैसी भरनी कहानी

संज्ञा किसे कहते है

संज्ञा किसे कहते है?

भाषा किसे कहते है

भाषा किसे कहते है?

GNM Course

GNM Course

Leave a Comment

भारत

भारतीय राज्यव्यवस्था
भारतीय अर्थव्यवस्था

शिक्षा

हिंदी व्याकरण
इंग्लिश ग्रामर
सर्टिफिकेशन कोर्स
डिप्लोमा कोर्स
ग्रेजुएशन कोर्स
पोस्ट ग्रेजुएशन कोर्स

फाइनेंस

म्यूचुअल फंड
स्टॉक मार्केट
इंश्योरेंस
बैंकिंग

अन्य

अनमोल विचार
कहानियां
बायोग्राफी
कवितायेँ
रोचक तथ्य
निबंध

About Us

WikiBharat.com एक ऐसा प्लेटफार्म है जहां पर आप भारत के बारे में सभी जानकारी अपनी भाषा में जान सकते है जिसमें भारतीय संस्कृति एंव सभ्यता, इतिहास, भूगोल,  अर्थव्यवस्था एंव राज्यव्यवस्था आदि विषय शामिल है। साथ ही आप करियर, शिक्षा, हेल्थ, फाइनेंस, टेक्नोलॉजी आदि के बारे में बहुत कुछ जान सकते है।

Important Links

About Us
Contact Us