पैन कार्ड क्‍या है और क्‍यों जरूरी है?

Written by Wiki Bharat Team

Published on:

अभी के समय में शायद ही कोई ऐसा होगा, जिसने पैनकार्ड का नाम नहीं सुना होगा। क्योंकि आज कल हर जगह फिर चाहे बैंक खाता खुलवाने की बात हो या डीमैट खाता। सभी के लिए पैन कार्ड अनिवार्य हो गया है। 

इसलिए आज हम समझेंगे कि पैन कार्ड क्या है और अभी के समय में हर भारतीय को पैन कार्ड बन बाना क्‍यों जरूरी है?

पैन कार्ड क्‍या है? – What is Pan Card in Hindi 

PAN Card (पैन कार्ड) एक Unique Identity Card है, जिसका पूरा नाम Permanent Account Number (PAN) होता है। हिन्‍दी में स्थायी खाता संख्या भी कहते हैं, लेकिन ज्‍यादातर लोग इसे PAN Card के नाम से ही जानते हैं और Tax Payer Person के लिए Income Tax Return File करने के लिए Pan Card होना Compulsory है।

इसे Permanent इसलिए कहा जाता है क्‍योंकि यदि एक बार आपका Pan Card बन गया है तो उसके बाद फिर से आपका Pan Card नहीं बन सकता, बस केवल बने हुए Pan Card में कोई Modification या Correction करना है, तो वह हो सकता है, लेकिन आप सोचे कि दोबारा से आपका Pan Card बन जाऐगा, तो ऐसा नहीं होगा, चाहे आपका Address ही क्‍यों न बदल जाऐं।

PAN Card दस अंकों का एक Alphanumeric Number है, जिसके प्रत्‍येक अंक का एक मतलब होता है, और ये Income Tax Department द्वारा Income Tax Act 1961 के Section 139A के तहत एक Laminated Card के रूप में जारी किया जाता है। Card पर इस Format ABBCF4047K में नंबर लिखे होते हैं, उसे ही PAN Number कहते हैं।

ये Alphanumerical Unique Identical Number होते हैं, जिसके Starting के 5 Letter Alpha Bets होते हैं, अगले 4 Letters Numeric होते हैं और Last Letter फिर से Alphabet होता है।

इन Numbers को Alphanumeric Number इसलिए कहते हैं क्‍योंकि इस Number में Alphabets भी आते हैं और Numeric Number भी होते हैं। Unique इसलिए कहते हैं क्‍योंकि जो Number आपके Pan Card का होगा, बिल्‍कुल वैसा के वैसा Number पूरे भारत में किसी और के Pan Card पर नहीं होगा, तभी तो आपका Pan Card अन्‍य लोगों के Pan Card से Unique कहा जाएेगा। Identical इसलिए कहा जाता है क्‍योंकि आप इसे पूरे भारत में एक ID Proof के रूप में Present कर सकते हैं।

Pan Card पर लिखे 10 Alphanumeric Number में Starting के 5 Alphabets में शुरूआत के 3 Alphabets में A से Z तक में से कोई भी Alphabets हो सकते हैं जबकि 4Th Alphabet को कुछ Rules & Regulation के मुताबिक तय किया जाता है।

  • यदि PAN Card किसी Association of Persons (AOP) के लिए बनाया जा रहा है तो 4Th Alphabet A होगा।
  • यदि PAN Card किसी Body of Individuals (BOI) के लिए बनाया जा रहा है तो 4Th Alphabet B होगा।
  • यदि PAN Card किसी Company के लिए बनाया जा रहा है तो 4Th Alphabet C होगा।
  • यदि PAN Card किसी Firm के लिए बनाया जा रहा है तो 4Th Alphabet F होगा।
  • यदि PAN Card किसी Government के लिए बनाया जा रहा है तो 4Th Alphabet G होगा।
  • यदि PAN Card किसी HUF (Hindu Undivided Family) के लिए बनाया जा रहा है तो 4Th Alphabet के लिए H होगा।
  • यदि PAN Card किसी Artificial Judicial Person के लिए बनाया जा रहा है तो 4Th Alphabet J होगा।
  • यदि PAN Card किसी Local Authority के लिए बनाया जा रहा है तो 4Th Alphabet L होगा।
  • यदि PAN Card किसी Person के लिए बनाया जा रहा है तो 4Th Alphabet Person P होगा।
  • यदि PAN Card किसी Trust के लिए बनाया जा रहा है तो 4Th Alphabet T होगा।

और 5Th Alphabet किसी भी Person के Last Name का First Character और किसी Company या Organization के Name का First Letter होता है।

ये भी पढ़े: आधार वर्चुअल आईडी कैसे बनाएं?

Last के 5 Digits एक Check Number होते हैं, जो कि Security के लिए होते हैं। 6-9 Number 0 से लेकर 9 तक के अंकों की Series होती है और दसवा Digit एक Trick पर आधारित होता है जो कि Income Tax Department के Formula के आधार पर दिया जाता है और उस Formula के द्वारा जो दसवा Digit आता है वह Digit भी Pan Card के पहले 9 Digits को ध्‍यान में रखकर दिया जाता है।

पैन कार्ड क्‍यों जरूरी है? – What is the Use of Pan Card in Hindi

हालांकि Pan Card सभी के लिए आवश्‍यक नहीं है, फिर भी यह उन लोगों के लिए मुख्‍य रूप से आवश्‍यक है जो या तो Income Tax Return Fileकरते हैं या उन लोगों के लिए आवश्‍यक है जो कोई बड़ा Financial Transaction करते हैं।

इसलिए यदि आप भी इनमें से किसी प्रकार का कोई व्‍यवहार (Transaction) करते हैं तो आपके लिए भी Pan Card अनिवार्य है अन्‍यथा आप इस प्रकार का कोई व्‍यवहार (Transaction) नहीं कर सकते हैं।

ऐसा जरूरी नहीं है कि जब आप उपरोक्‍त में से किसी प्रकार का कोई व्‍यवहार (Transaction) करेंगे, तभी आप Pan Card बनवा सकते हैं, बल्कि यदि आप अपनी इच्‍छानुसार चाहे तो भी आप Pan Card बनवा सकते हैं। अगर आपके पास Pan Card है, तो इसके कारण Government और अन्‍य Financial Institute की नजरों में आपकी साख (Credibility) भी बढ़ती है। Pan Card का Use निम्‍न कार्यो के लिए किया जाता है।

अगर आप कोई अचल संपत्ति (Immovable Property) नकद राशि में खरीदने या बेचने जा रहे हैं जिसकी लागत 10 लाख रूपए है तो आपको Pan Card Number Provide करवाना जरूरी है और यदि उस Property पर दो या दो से अधिक व्‍यक्तियों का अधिकार है अर्थात् वह Joint Property है तो उन सभी के Pan Card की Photocopy को Property के Document से Attach करना जरूरी है।

यदि आप Stock Market में Interested हैं और आप Unlisted Company के Equity Shares, Debentures, Mutual Fund या कोई Bond खरीदना चाहते हैं, जिसका Amount 1 लाख से ज्‍यादा  है, तो आपको Pan Card Number Provide करना पड़ेगा।

ये भी पढ़े: आधार कार्ड / ई – आधार कार्ड कैसे डाउनलोड करे?

यदि आप 50,000 रूपए या इससे ज्‍यादा नकद राशि अपने या किसी और के Account में Deposit करते हैं तो आपको Pan Card Number Provide करना जरूरी है।

अगर आप Indian Currency को Foreign Currency में Convert करना चाहते हैं तो भी Pan Card Number Provide करना जरूरी है।

अगर आप किसी Hotel या Restaurant में 50,000 रूपए का एक मुश्‍त Cash Amount Pay करते हैं तो Pan Card Number देना जरूरी है।

यदि आप Service Tax, Sales Tax और Excise Registration Number लेना चाहते हैं तो भी Pan Card Details Provide करना अनिवार्य है।

यदि आप Share Market में Interested हैं और आप किसी तरह का कोई Investment करना चाहते हैं तो उसके लिए सबसे पहले आपको Stock Broker से Demat Account Open करवाना होगा क्‍योंकि बिना इस Account के आप किसी तरह का कोई Investment नहीं कर सकते हैं और इसके लिए आपको Pan Card Details Provide करना जरूरी होता है अन्‍यथा आपका Application Form Reject कर दिया जाएगा।

यदि आपको Financial Year में प्राप्‍त होने वाली किराए की नकद राशि 1 लाख रूपए से ज्‍यादा है तो आपके पास Pan Card होना जरूरी है।

य‍दि आप Credit Card लेने के लिए Apply करते हैं और आपने Pan Card Number Provide नहीं किया तो आपका Credit Card Application तुरंत ही Reject कर दिया जाऐगा।और यदि एक बार Credit Card Application को Reject कर दिया जाता है तो Bank से Loan में Problem Create हो सकती है।

Pan Card होने पर आप इसका Use, ID Proof के रूप में भी कर सकते हैं।

Indian Government ने सभी Telecom Companies के लिए य‍ह अनिवार्य कर दिया है कि वह अपने सभी Applicant से Pan Details जरूर ले चाहे वह Landline Telephone Connection ले रहा हो या Cellular Connection ले रहा हो, ऐसा आतंकवाद पर नजर रखने के लिए किया जा रहा है।

यदि आप कोई नया Business Start करना चाहते हैं तो भी आपको Pan Card Number Provide करना पड़ता है।

यदि आप किसी प्रकार के Bank loan या Mortgages के लिए आवेदन करते हैं तो भी आपके पास Pan Number होना Compulsory है।

Insurance Policyholder जिसका एक साल का Premium Amount 50000 रूपए से ज्‍यादा है तो उसके लिए Central Board of Direct Taxes (जिसे Short में CBDT कहते हैं) ने Pan Card Number प्रस्‍तुत करना Compulsory कर दिया है।

अगर आप कोई Vehicle, Cash Amount में खरीदना या बेचना चाहते हैं जिसकी लागत 5 लाख रूपए से ज्‍यादा है तो आपको Pan Card की Copy Provide करना Compulsory है।

यदि आप किसी भी Bank में 50000 से ज्‍यादा Amount के लिए Fixed Deposit Account खुलवाना चाहते हैं तो आपको Document के साथ Pan Card की Photocopy को Attach करना पड़ेगा और यदि आपने ऐसा नहीं किया तो 10000 से ज्‍यादा Interest Amount होने पर जो TDS (Tax Deducted at Source) 10% की Rate से काटा जाता है वह 20% की Rate से काटा जाएगा, जो कि 10% ज्‍यादा है।