दिल को छू लेने वाली प्रेम कहानियां

Written by Wiki Bharat Team

Updated on:

नमस्ते दोस्तों! आपका स्वागत है हमारे नए ब्लॉग “Short Love Stories in Hindi” में। यहाँ हम आपको वो सुंदर कहानियाँ सुनाएंगे जो प्यार और दिल की गहराइयों को छू जायेंगी। 

क्या आपने कभी सोचा है कि कैसे छोटी-छोटी कहानियाँ हमें प्यार की अहमियत और वैल्यू को समझाती हैं? हां, ये कहानियाँ हमें दिखाती हैं कि प्यार का कोई आकार नहीं होता, और वो हमारे जीवन का सबसे अहम हिस्सा होता है।

Best Short Love Stories in Hindi

Short Love Stories in Hindi कहानियों से हम सिखेंगे कि प्यार कभी नहीं हारता और यह हमें हमेशा जीवन के सुंदर मोमेंट्स को महसूस कराता है।

तो, आइए हमारे साथ इस प्यार भरे सफर पर निकलें और जानें कैसे Short Love Stories in Hind हमें प्यार की अहम बातें सिखाती हैं। यह ब्लॉग न केवल बच्चों के लिए है, बल्कि हर उम्र के लोगों के लिए है, क्योंकि प्यार सभी के लिए होता है!

(1) Short Love Stories in Hindi : छोटी बेबी

कभी वह उसके लिए उसकी लड्डू, बेटू और छोटी बेबी हुआ करती थी। दिन में कई बार तीन फ्लोर की सीढियाँ चढ़ते उतरते और बहुत पैदल चलने पर कभी जब उसके पाँव दर्द करने लगते तो वह रात में उसके पाँव दबा देता था और उसके बालों को सहलाते हुए उसे सुला देता था। 

रात-रात जागते परीक्षा के दिनों में किसी पेपर के खत्म होकर घर पहुँचते ही खाना खाकर वह उसकी गोद में सर रखकर….

उसे पकड़कर सो जाती थी। वह दीवार से सटकर उसे यूँ ही सुलाए रहता। वह अक्सर कहता था, ‘तुममें जितना बचपन है…

उतना ही बड़प्पन भी। पता है।।।जिससे भी तुम्हारी शादी होगी उसे बच्चा और समझदार बीवी दोनों साथ-साथ मिल जायेंगे।’

वह हँसती और कहती, ‘किसी और से क्यों, तुमसे क्यों नहीं?’

‘तुम्हारा परिवार नहीं मानेगा, लेकिन मैं हमेशा तुम्हारा इंतजार करूँगा। तुम्हारी शादी के बाद भी। अगर जीवन में कभी भी तुम्हें लगे कि तुम ख़ुश नहीं हो तो तुम मेरे पास लौट आना’…

और ऐसा कहते और सुनते उन दोनों की आँखें भीग जाती।

अतीत की स्मृतियों से अचानक वह बाहर आती है। आज उससे फोन पर बात हुई थी। उसने बताया था वह पापा बनने वाला है। वह ख़ुश हुई और उसे उसकी इस ख़ुशी पर बधाई दी। बचपन और बड़प्पन दोनों उसमें आज भी है न। 🙂

(2) Short Love Stories in Hindi : इंतजार

वे दोनों सालों से नहीं मिले। गुजरते समय ने दोनों के जीवन में बहुत कुछ बदल दिया।

दूरियाँ ग़लतफ़हमी पैदा करती है, पर जब भी वे बात करते हैं तो सारी गलतफहमियां और गिले-शिकवे दरकिनार हो जाते हैं और उनकी बातों में उन मीठी पुरानी यादों का पिटारा खुल जाता है। भीगी आँखों में एक दूसरे के पुराने अक्स तैरने लगते हैं और धड़कते दिलों में बस एक ही शब्द गूंजता है…

काश! वह नहीं चाहती पर उसकी आँखों से आंसू निकलने लगते हैं। वह छिपाती है पर आवाज़ का भारीपन और रह-रह कर निकलती सिसकियाँ उसकी तकलीफों और तड़प को बयां कर देती है।

पर ये आंसू भी उसका सारा दर्द कहाँ निकाल पाते हैं। जब रोती आँखों को कन्धों का सहारा ना मिले तो दर्द की घुटन तो बाकी रहनी ही है।

वह कहता है (क्योंकि सिर्फ वही समझता है ) ‘तुम्हें ढेर सारे प्यार की जरुरुत है। तुम यहाँ आ जाओ, मैं तुम्हारा बहुत खयाल रखूँगा। फिर धीरे-धीरे सब ठीक हो जाएगा।’

वह छटपटाती है। उड़ना चाहती है। उसके पास जाना चाहती है। पर वह अपनी तकलीफों से लड़ते-लड़ते बहुत थक चुकी है। उसमें अब उड़ने की ताकत नहीं। न ही कोई नया सपना संजोने की हिम्मत। ऊपर से ढेर सारे बन्धनों की जकड़न। वह बहुत मजबूर है.. बहुत ज्यादा।

पर वह खुश है कि आज भी उसे उसका इंतजार है। लेकिन वह यह भी चाहती है कि वह आगे बढ़ जाए।

अतीत की स्मृतियों से वह बाहर आती है। साल भर पहले ही तो उसकी शादी हुई थी। इसके कुछ सालों पहले वह उसके इंतजार में ख़ुश थी…और अब उसके आगे बढ़ जाने पर भी।

कितनी बातें याद आती हैं…

आज अचानक तुम्हारी बहुत याद आई। तुम्हारे पास रहते हुए।।।तुम्हारे साथ रहते हुए…

कभी महसूस ही नहीं हुआ कि मैं किसी बंधन में हूँ। मुझे याद नहीं हमारी किसी भी बात को लेकर कभी भी कोई बहस हुई हो। हमने कभी कुछ नहीं थोपा एक दूसरे पर।।।कुछ भी नहीं।

हम अक्सर देखा करते थे।।।कैसे कई कपल्स हमेशा एक दूसरे से लड़ते-झगड़ते रहते थे।।।और मैं अक्सर सोचती थी कि हमारे बीच कभी झगड़ा क्यों नहीं होता?…

और फिर कभी-कभी मैं जान-बूझकर वाली लड़ाई किया करती थी…पर उसमें भी कभी कामयाब नहीं हो पाती।

क्योंकि एकतरफ़ा लड़ाई और गुस्सा भला कब तक चलेगा? मुश्किल से आधा घंटा भी नहीं होता होगा और मेरी आँखों से गंगा-यमुना बहने लगती…

और फिर लम्बी लड़ाई का सारा प्लान फ्लॉप हो जाता। उसके बाद भीगी आँखें और डरे-सहमे से मन के साथ कैसे मैं बच्चों की तरह तुम्हारा हाथ पकड़ लेती और फिर हम मेरी सबसे पसंदीदा।।एक लम्बी सी वाक पर जाते। सोच रही हूँ…

वो रास्ते आज भी हमें याद करते होंगे न?

(3) Short Love Stories in Hindi : अधूरी प्रेम कहानी

तुम्हें याद रह गए सिर्फ कड़वे शब्द और मेरे जेहन में समा गया था तुम्हारा मीठापन। जबकि अक्सर तुम कह जाते थे, बहुत मीठी है मेरी बातें और अक्सर मुझे लग जाते थे तुम थोड़े से सख्त। मेरी खोज उस सख्ती में छिपी नर्माहट की रही और शायद तुम्हें ढूँढना था मुझमें कड़वाहट को। 

जिसे जिसकी तलाश थी उसमें वही बाकी रह गया। देखो न तभी तो मैं नहीं तोड़ पायी आज तक नेह का वह बंधन जिसे तुम यह कहकर छिटक गए कि तुम्हें नहीं चाहिए कोई भी नकारात्मकता। और मुझे आज तक एक छोटी सी बात पर यह ‘तोड़ना’ सकारात्मक नहीं लग पाया।

तुम अकेले आज भी नहीं हो। क्या हुआ जो तुमने कहा था गर है मुझे तुमसे प्रेम तो मैं तुम्हें कभी नजर न आऊँ। मैं घुल गयी थी हवाओं में और आज भी गर्मी के भीषण ताप में शीतल हवाओं के झोंके बन छू जाती हूँ तुम्हें…

ताकि पहुँचा सकूँ तुम तक थोड़ी शीतलता। 

क्या हुआ जो तुमने कहा था गर है मुझे प्रेम तो मैं तुमसे कभी बात न करूँ। मैं बन गयी थी बरगद के पेड़ के चबूतरे का वह सन्नाटा जहाँ तुम अक्सर तुम अपने मन को शांत करने चले आते हो। क्या हुआ जो तुमने कहा था मैं तुम्हें कुछ भी लिखकर न भेजूं। 

मैंने बंद कर दिए हैं शब्दों के सारे संवाद तुमसे पर वह जो कोयल रोज तुम्हारे घर के सामने पेड़ पर बैठकर घंटों कूंकती हैं न?…

वह मेरा मन पढ़कर उड़ी चली आती है तुम्हारे पास। सुना है उसे सुनकर तुम्हें बहुत अच्छा लगता है।

तुमने हमेशा दुनिया की आँखों से मुझे पढ़ा। बस एक बार।।।सिर्फ एक बार।।।मेरी आँखों को पढ़ा होता। बहुत कुछ उन ब्लेंक स्पेसेस में भी लिखा होता है।।।जो शब्दों के बीच छोड़े जाते हैं।

उसका प्रेम खरा था, पर जब सारी दुनिया से उपजी निराशा का ठीकरा उसके सर फोड़ा गया तो वह खुद को निराशा के गहरे सागर में डूबने से नहीं बचा पायी। जब उसकी भावनाओं को दुनिया के सामने दांव पर लगाया गया तो वह अपना आत्मसम्मान भी खोने लगी। 

हर बार प्रेम के बदले मिली नफरत और तिरस्कार ने उसे खुद से नफरत करना सिखा दिया। जब प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से हर गलती का जिम्मेदार उसे ठहराया गया तो वह बेवजह का अपराध बोध पालने लगी। 

वह मनहूस है, वह विपदा लाने वाली है, ऐसे अहसासों ने उसका आत्मविश्वास डिगा कर रख दिया। गलती मेरी है, गलती मेरी ही है…

यह रटते-रटते वह एक दिन खुद को ही गलती मान बैठी। उसने बचपन में स्कूल की कापियों में सीखा था गलतियों को मिटाया जाता है, उन्हें काटा जाता है, उन्हें फाड़ दिया जाता है। उसने खुद के साथ भी वही किया। उसने खुद को मिटा दिया। काश! उसने जो वाकई में गलत लोगों से प्यार करने की गलती को सही किया होता।

(4) Short Love Stories in Hindi : यादों के झरोखों से

वो गर्मियों की एक अँधेरी रात थी। हर रोज की तरह उस दिन भी हम उसी सुनसान रास्ते पर घूमने निकले थे, जिस पर चलते-चलते हर रोज हमारे कदम एक मंदिर तक आकर रुक जाते थे। उन दिनों कभी-कभी मंदिर जाना अच्छा लगता था। वहां बहुत चहल-पहल रहती थी। मंदिर में दर्शन के बाद वहीँ बाहर बने चबूतरे पर हम कुछ देर बैठते और फिर वैसे ही लम्बी सैर कर अपने-अपने ठिकाने लौट आते।

उस दिन रास्ते में चलते-चलते अचानक सामने एक बाइक आकर रुकी जिस पर चार लड़के सवार थे। हममें से कोई उन्हें नहीं पहचानता था। पर उन्हें देखकर लग रहा था कि वे नशे में धुत्त हैं। 

वे चारों बाइक से नीचे उतरे और उनमें से एक तुम्हें मारने लगा। अचानक हुए इस घटनाक्रम से घबराई मैं तुम्हारा नाम पुकारते हुए तुम्हारी ओर आने लगी तो दूसरे लड़के ने मेरा हाथ पकड़ लिया और तीसरे ने चाक़ू भी निकाल लिया। 

मेरा हाथ पकड़कर खड़े लड़के ने अचानक मेरी आँखों में गौर से देखा तो डर के मारे मेरे मुंह से बस एक ही शब्द निकला, ‘मम्मी!’ पता नहीं उसे अचानक क्या हुआ और उसने एकदम मेरा हाथ छोड़ दिया और अपने सारे दोस्तों को इकट्ठा किया और वे सब उस बाइक पर सवार होकर उसी रफ़्तार से चले गए जैसे आये थे। 

उस समय तो दिमाग इस अजीब से वाकये को लेकर सुन्न हो गया था और हम घर लौट आये थे। लेकिन अगले ही दिन सब कुछ सामान्य भी हो गया और हमारा घूमना बदस्तूर जारी रहा। 🙂

(5) Short Love Stories in Hindi : उदास लम्हों में

इधर-उधर की बातें, किस्से, तस्वीरें, आवाजें और कोलाहल सब जब छितर जाता है तो हर बार दूर खड़े सिर्फ तुम ही नज़र आते हो। कॉलेज का वह आखिरी दिन जब तुम्हारा साथ और यादों का वह शहर लगभग छूट रहा था तब आँसू मेरी आँखों में भी थे और तुम्हारी में भी। 

पहली बार तुम्हें अपने सामने रोते देखा था और तब मेरी रुलाई और भी जोरों से फूट पड़ी थी। भीगी पलकों के साथ एअरपोर्ट पर दूर जाते तुम…

मोड़ आते ही पलट कर देखा था तुमने।।।तब हाथ खुद-ब-खुद ही ‘ऑल द बेस्ट’ कहने को ऊपर उठ गया था। पूरे छह महीने के बाद उसी शहर में जब तुम वापस आये।।।तब तुमसे मिलने आई मैं।।।इंतजार का एक-एक पल इतना उत्साह से भरा था कि पांच मिनट में पांच बार उठकर दूर तक नज़रें तुम्हें ढूंढने लगती थी…

और फिर करीब आधे घंटे बाद तुम्हारे नज़र आते ही धड़कनों के थम जाने और ख़ुशी की एक लहर रोम-रोम में दौड़ पड़ने का वह अहसास आज भी कहीं किसी कोने में जिंदा है शायद। कुछ देर बाद वहां आई मेरी सखी जो सारे किस्से से बेख़बर है, उसकी उपस्थिति में जानबूझकर सामने खड़े लगातार रूमानी आँखों से मुझे देखते तुम…

पलकें ऊपर उठाना भी मुश्किल कर दिया था तुमने। नहीं याद इस तरह से कब फिर शर्माई होऊँगी। -_-

त्योहारों के तार यादों से जुड़े होते हैं…

उन यादों से भी जिनका इस दिन से कोई सम्बन्ध होता ही नहीं। वरना क्यों अचानक याद आता मुझे वह आसमानी और नारंगी रंगों पर बनी सफ़ेद बंधेज वाला दुपट्टा, जो तुम्हें इतना पसंद था कि सालों तक तुम्हें उसके रंग याद रहे और एक दिन अचानक तुमने पूछा, ‘क्या अब भी पहनती हो वह दुपट्टा?’ मैं कैसे बताती तुम्हें कि जैसे सांझ से विदा हो जाते हैं उसके रंग…

कुछ ऐसे ही विदा हो गए मेरे जीवन से एक और सिमट कर दूसरी ओर लहराते वो खूब लम्बे-लम्बे दुपट्टे!

निष्कर्ष 

आप इस साथ इस प्यार भरे सफर चले, जोआपको छोटी प्यार भरी कहानियों (Short Love Stories in Hindi) की दुनिया में ले गया। यहाँ हमने वो कहानियाँ सुनाई जिनमें प्यार की मिसालें हैं, और हमारे दिल को छू लिया।

इन छोटी-सी कहानियों ने हमें यह सिखाया कि प्यार का मतलब है आपसी समझ, समर्पण, और सच्ची भावनाओं का इजहार करना। हमने देखा कि प्यार किसी के रूप, आकार, या उम्र से बंधा नहीं होता, बल्कि यह दिलों को जोड़ने की एक खास ताक़त होती है।

आपके साथ इस सफर का हर पल हमारे लिए अहम रहा है, और हमें गर्व है कि हमने आपको ये कहानियाँ सुनाई। हम आपके साथ और भी प्यार भरी कहानियाँ साझा करने के लिए तैयार हैं, इसलिए हमारी वेबसाइट पर विजिट करते रहे…

धन्यवाद और फिर मिलेंगे!

Leave a Comment